Friday, March 31, 2023

Definition or Meaning of Principle / सिद्धांत की परिभाषा

More articles

Definition or Meaning of Principle / सिद्धांत की परिभाषा
“”” सिद्धांत “”
“” किसी गुण व कार्य की विशेष दक्षता ही सिद्धि कहलाती है। “”
“” प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से निपुणता या महारत हासिल करना ही सिद्धि कहलाती है। “”
“” व्यवहारिक नियमावली जिसके प्रति पूर्ण मनोयोग से समर्पित होना ही उसे सिद्धांत बनाता है। “”
“” जीवनशैली द्वारा वह निर्धारण जिसके प्रति समर्पण और निष्ठा के साथ क्रियान्वयन भी शामिल हो,
उसे सिद्धांत कहते हैं। “”
“” किसी क्रियाप्रणाली को संचालित करने हेतु नियमों के निर्धारण व निर्देशन के मूल तत्व ही सिद्धांत कहलाते हैं। “”
मानस के अंदाज में –
“” स “” से संजीदगी जहां कार्यव्यवहार में शामिल होने लगे,
वहाँ कार्यकुशलता के साथ साथ परिणाम भी बदलने लगते हैं ;
“” ध “” से ध्यान जहां निपुणता के साथ  निभाया जाये,
वहाँ गुणवत्ता हर चीज में देखने लायक बनती है ;
“” द “” से दूरदर्शिता जहां नवस्थापना या नवसंचार के लिये अपनाई जाये,
वहाँ उसकी उपयोगिता कई गुना बढ़ जाती है ;
“” न “” से नियमबद्धता जहां जब कार्यशैली के लिये अपनाई जाती हो,
वहाँ संचालन सुचारू रूप से होना भी तय हो ही जाता है ;
“” त “” से तर्कशीलता जहां निर्णय लेने में प्रमुखता रखे,
वहाँ सही व गलत नहीं सिर्फ सैद्धांतिक तय होता है ;
“” वैसे संजीदगी जहां ध्यान / कर्म और दूरदर्शिता के प्रति हो, वह सिद्धि कहलाती है। “”
“” “” वैसे संजीदगी जहां ध्यान / कर्म और दूरदर्शिता के प्रति हो,
वहाँ नियमबद्धता के साथ तर्कशीलता  ही सिद्धांतों का निर्माण करती है। “”
मानस जिले सिंह
【 यथार्थवादी विचारक】
अनुयायी – मानस पँथ
उद्देश्य – समाज में शिक्षा, समानता व स्वावलंबन के प्रचार प्रसार में अपनी भूमिका निर्वहन करना।

2 COMMENTS

guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Devender
1 year ago

शानदार परिभाषित लेख

Manas Shailja
Member
1 year ago

great thought

Latest