Friday, February 3, 2023

“” सर्वहित स्वावलंबन के बिन अधूरा “”

More articles

“” Incomplete without Self-reliance “”
“” सर्वहित स्वावलंबन के बिन अधूरा “”

सर्वशिक्षा अभियान चला,
घर घर शिक्षा के दीप जलवायें ;

पेड़ लगाकर व जल बचाकर ,
प्रकृति सरंक्षण में अपना योगदान बढ़ायें ;

सुकन्या को घर लाकर ,
जाति पांति का भेद भी मिटवायें ;

मस्जिद में अजान, गुरुद्वारे में वाणी व मन्दिर में,
आरती पर श्रद्धा और विश्वास भी जतायें ;

रिश्तों में प्रेम को स्थान देकर ,
स्वर्ग से सुंदर धार्मिक बन्धन मुक्त परिवार बनायें ,

रोजगार कार्यक्रम चलवा कर ,
स्वावलंबन में विश्वास जगावायें ;

राजनीति व छद्मनीति छोड़ ,
राष्ट्र सेवा भाव नीति ही अपनायें ;

भिक्षा व दान नहीं सहयोग लेकर व देकर ,
अपना रोजगार की व्यवस्था में ही मन सँजोए ;

फास्ट फूड तो कभी – कभी ,
सिर्फ अब घर जैसे ही पकवान ही बनवायें ;

यूट्यूब, फेसबुक ही नहीं ,
सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेकर अपने हुनर से सबको परिचित करवायें ;

कर्मकांड जन्म से नहीं अपितु कर्म प्रधान चुन ,
अपेक्षित का मान सरंक्षित कर उनको भी गौरवान्वित करवायें ;

बुजुर्गों की सेवा व आदर कर,
हर घर ऑंगन के मंदिर को जगत से रुबरु करवायें ;

आओ फिर से स्वस्थ, सुंदर, शिक्षित, सुरक्षित व संस्कारिक,
समाज के नव निर्माण में अपनी भागीदारी को निभायें ;

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना में प्रकृति के नियमों को यथार्थ में प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध प्रयास करना।

2 COMMENTS

guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Umang
Umang
8 months ago

Self-reliance is the highest expression of “Self-Respect”.

Latest

error: Alert: Content is protected, Thanks!!