Tuesday, March 5, 2024

Definition of Moksha Path | मोक्ष पथ की परिभाषा

More articles

मोक्ष पथ की परिभाषा | मोक्ष पथ का अर्थ
Definition of Moksha Path  | Meaning of Moksha Path | Moksha Path Ki Paribhasha

| मोक्ष |

परम्परागत सोच में –

“” बिना विछोह के ईश्वरीय दर्शन ही मोक्ष है। “”

“” एक असीम कृपा युक्त क्षण जहां आत्मा का परमात्मा में विलीन होना निश्चित हो तो वह मोक्ष कहलाता है। “”

“” ईश्वर द्वारा आस्था का सर्वोच्च प्रसाद जिसे प्राप्त करने पर सब अभिलाषाओं को विराम मिले वह मोक्ष कहलाता है।
“”

मानस की दृष्टि से –

वैसे “” म “” से मनोवांछित फल
“” ओ “” से ओट
“” क्ष “” से क्षमता
से
वैसे “” म “” से मंथन
“” ओ “” से ओतप्रोत युक्त
“” क्ष “” से क्षमाशील

“” मनोवांछित फल की ओट व क्षमता को दरकिनार कर मंथन से ओतप्रोत हो और क्षमाशील बनना ही मोक्ष है। “”

सरल शब्दों में –

“” निश्छल कर्त्तव्यों , प्रेम व सत्यनिष्ठा के प्रति समर्पित जीवन जीने भान ही मोक्ष है। “

“” मानवीय मूल्यों का निश्छल निष्पादन ही मोक्ष कहलाता है। “”

| पथ |

“” जीवन की दिशा व दशा निर्धारित करने वाला कदम ही पथ कहलाता है। “‘

“” वास्तविकता के करीब लाने वाला निर्णायक कदम ही पथ कहलाता है। “”

सरल शब्दों में –

“” नये की शुरुआत हेतु सच्ची व वास्तविक सलाह पथ ही तो है। ””

“” सफर हेतु शुभ आशीर्वाद में सांकेतिक विचार विमर्श पथ ही है। “

“” आशंकाओं को निर्मूल करते हुए आशान्वित कार्य को कुशलता से निष्पादन करने की प्रकिया ही पथ है। “”

| मोक्ष पथ |

वैसे “” म “” से मोहमाया
“” क्ष “” से क्षय
“” प “” से पूर्व आंकलन
“” थ “” से थम यानि विराम

“” जहां मोहमाया का क्षय हो जाये और पूर्व आंकलन थम यानि विराम अवस्था गृहण करे तो वह मोक्ष पथ कहलाता है। “”

वैसे “” म “” से मम
“” क्ष “” से क्षत विक्षत
“” प “” से पूर्वानुमान
“” थ “” से थामना

“‘ जहां मम यानि अहम क्षत विक्षत यानि नष्ट हो जाये और पूर्वानुमान को थामना व नये के शुभारंभ का कारक भी बने तो वह मोक्ष पथ कहलाता है। “‘

“” मोक्ष पथ जीवन को जीवंत और आनन्दमयी बनाने की सर्वोच्च व सर्वश्रेष्ठ पद्धति यानि डगर है। “”

These valuable are views on Definition of Moksha Path | Meaning of Moksha Path | Moksha Path Ki Paribhasha
मोक्ष पथ की परिभाषा | मोक्ष पथ का अर्थ

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण मेंप्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना

1 COMMENT

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Sanjay Nimiwal
Sanjay
9 months ago

बहुत खूब 🙏👌🙏

संसार से ऊपर उठने की चाह में,,,
खोना पङता है सब कुछ इस राह में ।।।

Latest