Thursday, July 25, 2024

The Disciple’s Wish | मार्मिक सन्देश

More articles

शिष्य की कामना | मार्मिक सन्देश
The Disciple’s Wish | Touching Message | Marmik Sandesh

“” मार्मिक सन्देश देती हुई कुछ पंक्तियाँ “”

“””
मेरे तो श्रीधर लाल, दूसरो न कोई।
जाके माथे चन्द्र ललाट, मेरो गुरुवर सोई ||

तात मात भ्रात बंधु सब, आपनो न दूजो कोई।
छोड़ि दई कुल की कानि, कहा अब करै कोई ||

संतग में ढिग बैठि बैठि, लोक मर्यादा नई रचवाई।
अँसुअन जल सींचि सींचि, प्रेम व ज्ञान की बेलि बोई ||

अब तो बेलि फैल गई, आनंद फल होई।
ज्ञान की गंगा अब उतारो मेरे प्रभु , ताहि भव से विराग मोह होई ||

तोरि संगत में तो मैं राजी भई, जगत देखि तो हर पल रोई।
मोहे को नहीं जानत इस दुनिया में, ता से ही अब मोहि पहचान होई ||

“” दास मानस लाल श्रीधर, तारौ अब मोही “”
“”””

स्रोत – … मीरा बाई
संशोधित रचना – मानस

These Valuable are views on the The Disciple’s Wish | Touching Message | Marmik Sandesh
शिष्य की कामना | मार्मिक सन्देश

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना।

5 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
5 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
hariom potaliya
Member
4 months ago

गुरुदेव को अपने प्यार भरे शब्दो के सम्मान रूपी जाल मे प्रतिपादित करना अदभुत है।

Sanjay Nimiwal
Sanjay Kumar
4 months ago

बहुत सुन्दर 🙏👌🙏

कवि के शब्द तो दिल से निकलते है,,,
दिमाग से तो सिर्फ मतलब निकलते है।।।

एक विचारक (लेखक) ✒️ बने कवि 😊😊

Amar Pal Singh Brar
Amar Pal Singh Brar
4 months ago

अभीष्ट!

Mukesh SHARMA
Member
4 months ago

Good

Sarla Jangir
sarlajangir2411@gmail.com
3 months ago

“ज्ञान समुद्र तुम , गुरुवर खेवैया|
तारण- तरण जग रीत है भैया ||”

  • प्रोफेसर सरला जांगिड

Latest