Monday, June 24, 2024

Definition of Accept | मानने की परिभाषा

More articles

मानने की परिभाषा | मानने का अर्थ
Definition of Accept | Meaning of Accept | Manne Ki Paribhasha
“” मानना “”
Principles of Personal Performance
Fourth Step “” Accept “”
“” व्यक्तिगत प्रदर्शन सिद्धांत के पंचतत्व में  अंतिम पड़ाव “” मानना “” है।
“” आदर, सम्मान व समर्पण के प्रति श्रद्धा युक्त मौन ही मान कहलाता है। “”
“” गुण, श्रेष्ठता के प्रति न्यौछावर होना ही मान कहलाता है। “”
“” किसी विषय के सभी परिप्रेक्ष्य की गहनता से जांच परख के उपरांत स्वीकारोक्ति या आगे बढ़ने की प्रक्रिया ही मनन कहलाता है। “
“” किसी विषय या विचार के प्रति निष्ठापूर्वक अनुसरण करना ही मानना कहलाता है।””
वैसे मानस के अंदाज में –
“” म “” से मर्यादा जहां वार्तालाप का आधार बने,
वहाँ हाजिर जवाब होने के साथ साथ सलीके से बात करना आ ही जाता है ;
“” न “” से निःशब्द जहां रहने की शैली कभी कभी अपनाई जाये,
वहाँ हालातों पर तसल्लीबख्श अध्ययन के साथ व्यक्तित्व के विकास में भी निर्णायक भूमिका निभाई जा सकती है ;
“” न “” से नतमस्तक  जहां अपने से अधिक गुणों / बड़ों को सम्मान देने हेतु प्रस्तुत हो,
वहाँ आदर, सद्भाव के साथ समर्पण भी देखने लायक होता है ;
 “” वैसे मर्यादा के प्रति जहां निःशब्दता और उसके साथ नतमस्तक होना ही मानना कहलाता है। “”
“” मानने का मतलब ही किसी के प्रति सच्चा समर्पण, अनुसरण भाव आपके अंदर मौजूद है। “”
These valuable are views on Definition of Accept | Meaning of Accept | Manne Ki Paribhasha.
मानने की परिभाषा | मानने का अर्थ

मानस जिले सिंह
【 यथार्थवादी विचारक】
अनुयायी – मानस पँथ
उद्देश्य – समाज में शिक्षा, समानता व स्वावलंबन के प्रचार प्रसार में अपनी भूमिका निर्वहन करना।

3 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Devender
2 years ago

"न" से नतमस्तक……. देखने लायक होता है ।
शानदार, विचारणीय लेखन ।।
अतिसुंदर लेख ।।।

Manas Shailja
Member
2 years ago

sunder chintan

SARLA JANGIR
SARLA JANGIR
1 year ago

अग्रज बनकर हमेशा पथ प्रदर्शक रहा ,
पिता समतुल्य बनकर हमेशा पोषण करता रहा,
 भ्राता बनकर हमेशा रक्षक बना रहा ,
खिलौना बन कर मुझसे हमेशा हंसाता रहा,
 सफलता उन्नति के शिखर पर पहुंचे वो,
ये दुआ भी क्या दूं,
 कि मेरी इच्छाओं की मूरत वह बनता रहा ,
भाव ज्यादा, शब्द कम है ,
क्या कहूं मेरे भाई के बारे में, 
जो हमेशा मेरी परछाई बनकर चलता रहा।- जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं।

Latest