Friday, June 14, 2024

Panth Ki Paribhasha | धर्म का भावार्थ

More articles

धर्म का भावार्थ | पँथ की परिभाषा
Panth Ki Paribhasha | Dharma Ka Bhavarth | Meaning of Dharma
“” अपने विचारों , दुःख या परेशानी का निवारक / विघ्नहर्ता अदृश्य शक्ति या ईश्वर को मानने की अवधारणा से हुई उपज ही ” धर्म | पँथ ” है। ““”
या
“” संरक्षण, स्वालम्बन व समृद्धि की चाह से जिस विचारधारा की अधीनस्थता हुई, वही तो ” धर्म | पँथ ” है। “”
या
“” अपनी नाकामी या निर्णय के अनवांछित परिणाम को अन्य पर थोपने की नकारात्मक प्रकिया ही ” धर्म | पँथ ” है।””
★★★ “” निर्णय के सकारात्मक परिणाम होने पर अपने वजूद को परिष्कृत, प्रशंसनीय व प्रतिष्ठित होने की आकांक्षा बनी रहती है,
परन्तु यही फल अनपेक्षित रहने पर अदृश्य शक्ति यानि ईश्वर को बलि का बकरा बनाने की विचारधारा का नाम ही धर्म है। “”” ★★★
“” अपने आप को संगठित, सैद्धांतिक व सद्गुणी दर्शाने की अटकलबाजी के साथ व्यावसायिक हित साधने की शैली ही दूसरे रूप में ” धर्म | पँथ ” है। “”
★★ “” आज के परिपेक्ष्य में धर्म / पँथ आध्यात्मिक मार्ग से कहीं ज्यादा
वर्चस्व, शक्ति परीक्षण व सत्तारूढ़ होने या दर्शाने का जरिया भर ही नजर आता है। “” ★★
These valuable are views on Panth Ki Paribhasha | Dharma Ka Bhavarth | Meaning of Dharma.
धर्म का भावार्थ | पँथ की परिभाषा
मानस जिले सिंह
【 यथार्थवादी विचारक】
अनुयायी – मानस पँथ
उद्देश्य – सामाजिक व्यवहारिकता को सरल , स्पष्ट व पारदर्शिता के साथ रखने में अपनी भूमिका निर्वहन करना।

1 COMMENT

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Manas Shailja
Member
2 years ago

so nice

Latest