Tuesday, May 28, 2024

Casteism Reservation | जातिवाद आरक्षण

More articles

कल का ब्राह्मणवाद Vs आज का जातिवाद आरक्षण
Earlier’s Brahminism Vs Today’s Casteism Reservation

“‘ ब्राह्मणवाद Vs जातिवाद आरक्षण “”

“” ब्राह्मणवाद ऐसी कट्टरपंथी मानसिकता की परिचायक थी जिसमें ज्ञान, शक्ति व अध्यात्म के बल पर अन्य वर्ग के शोषण का प्रतीक रही।
“”
Vs

“” आज का जातिवाद आरक्षण ब्राह्मणवाद की वजह से पीड़ित वर्ग को सामाजिक न्याय प्रदान करने हेतु की गई राजनैतिक, आर्थिक स्तर पर सुनिश्चित भागीदारी है। “”

“” ब्राह्मणवाद की कट्टरपंथी सोच का दुःखद परिणामस्वरूप प्रतिक्रिया जातिगत आरक्षण बनी।
पर हम क्या ये अनुमान लगा सकते हैं जातिगत आरक्षण के प्रति बढ़ती रुचि सामाजिक अलगाव ही नहीं समरसता , समभाव व सद्भाव के विध्वंस की ओर ही बढ़ रही है। “”

“” आजकल के नेता जागे हुए भस्मासुर को तांडव नृत्य के लिए आमन्त्रित ही नहीं कर रहे हैं अपितु कट्टरपंथी सोच से अराजकता और फिर अलगाव के कुमार्ग की ओर धकेल भी रहे हैं।

परिणामस्वरूप मानव सभ्यता कई खानों में बंटेगी और गिद्ध उसे नोचेंगे और धूर्त उस पर राज करेंगे। “”

“” जातिगत आरक्षण पहली दृष्टि में पिछड़े वर्गों को लाभ पहुंचाने का ध्येय नजर आता है परंतु वास्तविकता भाई भतीजावाद , प्रतिस्पर्धा में अलगाव और फिर परिवारवाद की ओर बढ़ते कदम की सिर्फ ये बानगी है। अन्ततः परिणाम बहुत ही भयानक रहेंगे। “”

“” समान शिक्षा, स्वास्थ्य और सहभागिता में अवसर ही स्वस्थ, सुंदर और सुदृढ़ समाज का मार्ग है। “”

These Valuable are views on the Earlier’s Brahminism Vs Today’s Casteism Reservation
कल का ब्राह्मणवाद Vs आज का जातिवाद आरक्षण

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest