Sunday, April 21, 2024

Contented Thinker | सन्तोषवान विचारक का अर्थ

More articles

सन्तोषवान विचारक का अर्थ | सन्तोषवान विचारक की परिभाषा
Definition of Contented Thinker | Philosopher Ki Paribhasha | Shantoshvan Vicharak Ki Paribhasha

Contented Thinker
“” सन्तोष से विचारक “

अब मैं अजीब ही मुक़ाम पर पहुंच गया,
पहले समझौता अब तो सन्तोष ही करने लग गया हूँ ;
जहां न अच्छा पाने का ख्याल है न ही बुरा होने का डर ,
कहने भर को कोई शिकायत नहीं पर ” जैसा हूँ वैसा ही मैं ठीक ही हो गया  हूँ ” ;

कभी बना जो हुक्मरानों के जुल्मों सितम में विरोध का स्वर,
मुखर आवाज लेते हुए न्याय की तलाश में अब समाजसेवी बन रहा हूँ ;
ना अब काम जाने का डर है अब ना ही रिश्तों के खो जाने का मलाल,
मानस अब दुनिया की नजर में मुख्लिसों का जो हमदर्द बन रहा हूँ ;

जब छलकने लगा जो दर्द आँखों से दूसरों का,
सेवा में समर्पण व सुख के त्याग से अब संत होने की तरफ़ बढ़ रहा हूँ ;
जब न रहा माया खोने का ख़ौफ व ना रही जिंदा रहने की जद्दोजहद,
तब दुनिया कहने लगी कि मैं अब ” यथार्थवादी विचारक ” बन गया हूँ ।

These valuable are views on Definition of Contented Thinker | Philosopher Ki Paribhasha | Shantoshvan Vicharak Ki Paribhasha .
सन्तोषवान विचारक का अर्थ | सन्तोषवान विचारक की परिभाषा

Manas Jilay Singh 【 Realistic Thinker 】
Follower – Manas Panth
Purpose – To discharge its role in the promotion of education, equality and self-reliance in social.

3 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Rampratap gedar Ram
Ram gedar
2 years ago

Wow sir kya line likhi hai ek garib insaan ke vichar likhe diye sir jo thode me sota hai thode me jita hai or ek amir aadmi ke liye kaale आखर likh diye jish ko कहीं sakun nahi hai har time paane ki इच्छा rakhta hai उसे dar rahta hai mai गरीब na ho jaau

Amar Pal Singh Brar
Amar Pal Singh Brar
2 years ago

जीवन का चरम बिंदु

Devender
Devender
1 year ago

“सेवा में समर्पण……संत होने की तरफ बढ़ रहा हूं”

अति सुन्दर लेखन

Latest