Monday, June 24, 2024

Definition of Communication Gap | संवादहीनता की परिभाषा

More articles

संवादहीनता की परिभाषा | संवादहीनता का अर्थ
Definition of Communication Gap | Meaning of Breakdown in Communication | Samvad hinta Ki Paribhasha

“” संवादहीनता “”

“” परोक्ष या अपरोक्ष रूप से धारणाओं को साझा करने में नीरसता ही संवादहीनता की परिचायक है। “

“” अपने – अपने मतों को साझा करना जब दिखावे के लिए जरूरी होने लगे तो वहां संवादहीनता ही है। “”

“” भावभंगिमाओं द्वारा विचारों का सम्प्रेषण जब निराशावादी हो जाये तो वह भी संवादहीनता ही है। “”

वैसे “” स “” से संज्ञानात्मक विचार
“” म् “” से मासूमियत
“” व “” से विस्तृत
“” द “” से दस्तूर
“” ह “” से हतोत्साहित
“” न “” से नीरसता
“” त “” से ताकीद
“” संज्ञानात्मक विचार को मासूमियत व विस्तृत रूप से रखने का दस्तूर जब हतोत्साहित व नीरसता की ताक़ीद करे तो वह संवादहीनता कहलाती है। “”

वैसे “” स “” से सहजता
“” म् “” से मार्मिक
“” व “” से वार्तालाप
“” द “” से दस्तावेज लेनदेन
“” ह “” से हैरान
“” न “” से नकारात्मक प्रभाव
“” त “” से तनातनी युक्त

“” सहजता से मार्मिक वार्तालाप या दस्तावेजों के लेनदेन जब हाजिरजवाबी व नकारात्मक प्रभाव की तामील करे तो वहां संवादहीनता ही है। “”

“” भावनाओं में अविश्वास के साथ आदान प्रदान में भी अरुचि प्रकट हो तो वह संवादहीनता कहलाती है। “”

“” संवादहीनता निजी जीवन के रिश्ते ही नहीं परिवारिक रिश्तों को भी कमजोर तो कभी टूटने के कगार पर ले आती है। “”

These valuable are views on Definition of Communication Gap | Meaning of Breakdown in Communication | Samvad hinta Ki Paribhasha
संवादहीनता की परिभाषा | संवादहीनता का अर्थ

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना।

3 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Sanjay Nimiwal
Sanjay
1 year ago

अतिसुन्दर 🙏👌🙏हमें अपने दिल व दिमाग के झरोखे खुले रखने चाहिए, क्योंकि संवादहीनता ही गलतफहमीयों को जन्म देती है।

Amar Pal Singh Brar
Amar Pal Singh Brar
1 year ago

सत्य कथन

सार्थक एवं सतत् संवाद संबंधों में प्रगाढ़ता स्थापित करता है |

Mahesh Soni
Mahesh Soni
1 year ago

“बातचीत का मजा तब ही आता है…
जब सामने वाले के कान खुले है।
वार्ना तो तुम कितना ही सुर में गा लो
सब शोर कहलाता है।”
– महेश सोनी

Latest