Friday, March 31, 2023

“” विरोध की परिभाषा “” Or “” विरोध सिर्फ वर्चस्व की जिद “”

More articles

“” विरोध की परिभाषा “” Or “” विरोध सिर्फ वर्चस्व की जिद “”
“” Resistance is only the Insistence of Domination “” Or ” Definition of Resistance “”

“” विरोध “”

नुकसान छोड़ कभी- कभी भावनाओं के साथ खेल भी हम बर्दाश्त करते हैं ,
टीस उठी ऐसी दिल में जो सब कुछ मिटाने की बात करते हैं ;
फिर चाहे सामने ताकतवर हो या धूर्त या फिर जान पर भी बने ,
हुंकार ऐसी हमारी मानो जैसे जंगल में शेर ही दहाड़ भरते हैं ;

कागजी शेर कहें या मौकापरस्ती उनकी जो ,
शक्तिशाली प्रतिद्वंदी की समृद्धि को रोकने में हवाई बात ही करते हैं ;
हिफाजत की इमदाद भरी एक पल जिनसे, उनके hi सीने पर गोली का इतंजामात भी करते हैं ,
जो छोड़ न सके सोशल ऐप्स जो विरोध में , वो हस्ती मिटाने हेतु सौगंध लेने की बात भी करते हैं ;

वैसे विरोध में “”व”” से वर्चस्व बनाये रखने की जहाँ वचनबद्धता बनी हो ,
व्यक्तिगत हो या सार्वजनिक हितों की प्राथमिकता की कुवत भी करते हैं ;
“”र”” से रक्षित अधिकार करने का जहां नियम विद्यमान हो ,
रक्षात्मक रहते भी लाभ की आकांक्षा लिए खड़े भी रहते हैं ;

“”ध”” से धारणा अलगाव की जहां हरदम भीतर हो ,
धूर्त्तता व धृष्टता भी धर्मपरायणता की धरोहर के साथ खड़े मिलते हैं ;
वैसे “” वर्चस्व रक्षित धारणा “” जीवन में जहां कायम हो ,
वहां पग – पग मुखर हो अग्र पंक्ति में “” विरोध “” दर्ज भी करवाया करते हैं ;

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना।

2 COMMENTS

guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Harish
Harish
8 months ago

Correct 💯

Juneja juneja
Sandeep juneja
7 months ago

बिलकुल सही बात करते है।

Latest