Tuesday, May 28, 2024

Definition of Untouchability | छुआछूत की परिभाषा

More articles

छुआछूत की परिभाषा | छुआछूत का अर्थ
Definition of Untouchability | Meaning of Untouchability | Chhuachhut Ki Paribhasha

| छुआछूत |

“” किसी को नीच मानते हुए भी अपना काम निकालने में बरते गये फांसले की चतुराई या धूर्तता ही छुआछूत है। “”

“” निम्न समझते हुए किसी से अधिक से अधिक दूरी रख वार्तालाप या व्यवहार करने की प्रवृत्ति ही छुआछूत कहलाती है। “”

“” किसी प्राणी या वर्ग विशेष को सामाजिक समकक्ष न मानते हुए अलग थलग रखने की प्रक्रिया में निर्णायक विकृत मानसिकता प्रवृत्ति ही छुआछूत है। “”

वैसे “” छ “” से छ्द्म / छल जहां मानसिकता की रोजमर्रा की आदत में हो,
वहाँ विघटन व अलगाव समाजिकता का हिस्सा आसानी से बनना तय है ;
“” अ “” से असमानता जहां इंसानियत को जकड़ लेती है ,
वहाँ भेदभाव , भाई भतीजावाद जैसी कुरीतियां अवश्य जन्म लेती हैं ;

“” छ “” से छिछलापन जहां विचारों में जमा रहता है ,
वहाँ विचारों की स्पष्टता व गम्भीरता में सदैव अभाव बना रहता है;
“” त “” से तिरस्कार जहां अहम की संतुष्टि की परिचायक बन जाये ,
वहाँ नफ़रत व हिकारत का माहौल स्वस्थ समाज के लिए घातक सिद्ध होता है ;

“” वैसे छल के साथ जहां असमानता की प्रधानता हो,
वहां विचारों का छिछलापन व्यक्ति या वर्ग विशेष के लिए तिरस्कार की भावना को जन्म दे तो वह छुआछूत कहलाता है । “”

“” छुआछूत समाज के लिए वह केंसर है जिसका इलाज वर्णमुक्त समाज व धर्म संम्भाव है “”

“” समाज अपने समान बराबरी का सम्मान ना दे पाने की व्यवस्था ही छुआछूत कहलाती है। “”

“” हर जाति और धर्म के श्रेष्ठता की अंधी दौड़ ने मानवता व सर्वकल्याण को पीछे छोड़ दिया है ;
अतः रूढ़िवादी व अंधविश्वासी विचारधारा मुक्त जीवन ही सच्ची प्रकृति सेवा व “” मानस “” की परिकल्पना है। “”

These valuable are views on Definition of Untouchability | Meaning of Untouchability | Chhuachhut Ki Paribhasha
छुआछूत की परिभाषा | छुआछूत का अर्थ

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना।

2 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
saurav Kumar
Member
1 year ago

its very nice post ..

Sanjay Nimiwal
Sanjay
1 year ago

किसी का छूआ हुआ पानी नहीं पीते हैं जो लोग,

ना जाने उसी हवा में सांस कैसे ले लेते है वही लोग।

Latest