Tuesday, March 5, 2024

Huge Crowd | भारी भीड़

More articles

Huge Crowd | Huge Crowd but Not to Join the Crowd | Bhari Bhid

“”” हर इंसान भारी भीड़ तो चाहता है,

पर वह “” भीड़ में शामिल होना “” नहीं चाहता। “””

—- x —— x ——— x ———–

“” इंसानों की फ़ितरत कहूँ या अदा ,
बोलना अच्छा लगता है कहीं सुनने से ज्यादा । “”

“” इंसान भी क्या अजीब प्राणी है —–

भीड़ में रहो तो, एकांत हीअच्छा लगता है ;
अकेले में खड़े हो तो, सामने भारी भीड़ को दर्शक में देखना अच्छा लगता है;
न्याय की कतार में तो अधिकार की बात करता है ;
सत्ता में हो तो, दायित्व व आदेश नियमों का हवाला देता है ;
पढ़ लिखकर, अच्छी नोकरी करना चाहता है;
बन जाये जब बाबू तो मालिक /हुक्मरानों की तरह धौंस भी चलाना चाहता है ।””

★★ “” इंसान जब तक सुख प्राप्त नहीं कर सकता है,
जब तक अपने सामर्थ्य पर पूर्णतया भरोसा कर नहीं लेता। “”” ★★

Huge Crowd | Huge Crowd but Not to Join the Crowd | Bhari Bhid

मानस जिले सिंह
【 यथार्थवादी विचारक】
अनुयायी – मानस पँथ
उद्देश्य – सामाजिक व्यवहारिकता को सरल , स्पष्ट व पारदर्शिता के साथ रखने में अपनी भूमिका निर्वहन करना।

1 COMMENT

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Manas Shailja
Member
2 years ago

nice thinking

Latest