Tuesday, June 25, 2024

Meaning of False Dignity | झूठ की गरिमा अब बढ़ चली

More articles

झूठ की परिभाषा | झूठ का अर्थ
Meaning of False Dignity | Definition of Lie | Jhuth Ki Paribhasha

The dignity of lie has Increased
| झूठ की गरिमा अब बढ़ चली |

झूठ ने शेखी बखारते हुए कहा , ईमान की कसम अब मेरा रूतबा बढ़ चला है ;
तमाशबीनों में मेरा नाम झूठ से बदलकर मीडिया ही हो चला है;

अब तो झूठ का दौर, इतना बढ़ चला है ;
शर्म, हया, ग़ैरत तो दूर , अब तो इसके आगे ईमान भी बिक चला है;

झूठी तारीफ कहना ही नहीं , अब सुनने का भी प्रचलन बढ़ चला है ;
मक्कार नेताओं को पछाड़ते हुए, झूठ सुनने वाले का नाम भी अब सेक्युलर हो चला है ;

झूठ यह कह खूब रोया, कभी कभार ऑंख देखी व कान सुनी भी तो झूठ हो जाती थी ;
अब तो उस झूठ को भी सफेद कागज में सच बताकर, झूठ को बदनाम करने की साजिश का नाम दलीय संविधान हो चला है।

These valuable are views on Meaning of False Dignity | Definition of Lie | Jhuth Ki Paribhasha
झूठ की परिभाषा | झूठ का अर्थ

मानस जिले सिंह
【 यथार्थवादी विचारक】
अनुयायी – मानस पँथ
उद्देश्य – समाज में शिक्षा, समानता व स्वावलंबन के प्रचार प्रसार में अपनी भूमिका निर्वहन करना।

1 COMMENT

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Sanjay Nimiwal
Sanjay
2 years ago

इस दुनियां में—
झूठ और फरेब का साया है…
हर चेहरे पर एक अनौखी माया है ।।।

Latest