Sunday, February 18, 2024

Meaning of Recognition | आवाज़ की पहचान

More articles

आवाज़ की पहचान | पहचान का अर्थ
Meaning of Recognition | Definition of Recognition | Pahchan Ki Paribhasha

| Voice Recognition |
| आवाज़ की पहचान |

कोई कहता है हम हाले दिल बयां करते हैं ,
तो कोई हमें ज़ुल्मी समय की आवाज बताता है ;

तो फिर कोई रूबरू हुए दर्द का जीता जागता पुतला बताते हैं ,
फिर कोई हमें प्यार से आंखें चार करने का इश्किया अंदाज़ भी बताते हैं ;

मान रखा सबका तो कद्रदान कहलाते हैं ,
मिलाने का सिलसिला निभाया तो दिलों के तार भी कहलाते हैं ;

रोष जताने का रौद्र रूप भी हर कोई मुझे कहता है ,
तो कोई मुझे तुगलकी फरमानों के विरोध का आगाज भी मानते हैं ;

मजलूम के हक़ की हुंकार भी हम सदैव बनते रहे हैं ,
आँख से टपकते लहू में मुख्लिस की पीड़ा की पुकार भी मानते हैं ;

कभी व्यथित गूँगे के अनकहे बोल को मुझे मर्यादित बनाने वाला अमूल्य योगदान भी कहते हैं ,
तो कभी अल्फाज के मान को जताने वाली हमको फिर “” हथेली पर रखी जान ” भी कहते हैं ;

These valuable are views on Meaning of Recognition | Definition of Recognition | Pahchan Ki Paribhasha
आवाज़ की पहचान | पहचान का अर्थ

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest