Tuesday, May 28, 2024

Definition of Manas Ideology | मानस विचारधारा का भावार्थ

More articles

मानस विचारधारा का भावार्थ | मानस विचारधारा का अर्थ
Definition of Manas Ideology | Meaning of Manas Ideology | Manas Ideology Ka Arth

| मानस विचारधारा का भावार्थ |

किसी को झुकाने का नाम मानस नहीं,
तो किसी के सामने गिड़गिड़ा जाये उसकी पहचान भी मानस नहीं ;
किसी को दबाने का दंभ मानस नहीं,
तो स्वाभिमान से नीचे उतर कर चाह भी तो मानस नहीं ;

बात से पलटने की मौकापरस्ती मानस नहीं,
तो अटल होकर मिटाने की सनक भी मानस नहीं ;
हार कर जीतने की कसम मानस नहीं,
तो अपनों से हारकर उदण्डता को बढ़ावे की फितरत भी मानस नहीं ;

किसी के स्वावलंबन को शर्मसार करने का मिजाज मानस नहीं,
तो अभिमान में किसी को रौंदने की स्वच्छन्दता भी मानस नहीं ;
वचनों में किसी को बांधना की प्रकृति मानस नहीं,
तो वचन विमुख हो जाने परम्परा भी मानस नहीं ;

किसी का हक़ छीनने का पागलपंथी मानस नहीं,
तो अपने हिस्से के खातिर उन्मादी होना भी मानस नहीं ;
क्षमा दान को यश की सीढ़ी बनाने की विकृति मानस नहीं,
तो गलती की माफ़ी नहीं मांगने का हठ भी मानस नहीं ;

होड़ जहां बराबरी की हो ऐसा मद मानस नहीं,
तो प्रतियोगिता में पीठ दिखाने की कायरता का प्रयास भी मानस नहीं ;
सम्मान पाने की स्पर्धा में बिछ जाने की मनोवृत्ति मानस नहीं,
तो पूज्य भाव में भी स्तरहीन हरकत की धृष्टता भी मानस नहीं ।

These valuable views on Definition of Manas Ideology | Meaning of Manas Ideology | Manas Ideology Ka Arth
मानस विचारधारा का भावार्थ | मानस विचारधारा का अर्थ

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना हेतु प्रकृति के नियमों का यथार्थ प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध योगदान देना।

1 COMMENT

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Sanjay Nimiwal
Sanjay
1 year ago

अति उत्तम 🙏👌🙏

Latest