Monday, June 24, 2024

Meaning of Half Truth | झूठ, ज़हर  व अर्द्धसत्य 

More articles

झूठ, ज़हर की परिभाषा | अर्द्धसत्य  का अर्थ
Meaning of Half Truth | Definition of Lie | Ardhsatya Ki Paribhasha

| झूठ, ज़हर  व अर्द्धसत्य |

झूठ बोला, मत हिकारत से घूर ऐ दिले नादान ;
मैं हजारों के लिये तो न सही, बस वक्ता के लिए तो बहुत अच्छा हूँ ;

देख एक बार, मेरी फ़ितरत ऐ चरम का असर ;
जब बेपर्दा होती हूँ तो, वक्ता के लिए ज़हर बाकी हजारों की दवा बनती हूँ ;

जहर बोला, इतनी बेकद्री ना कर ऐ झूठ,
मैं , हर पीने वाले को थोड़ी ना मारता हूँ ;

मैं अर्द्धसत्य थोड़ी न हूँ , जो रगों में विष बन बहता हूँ ;
मेरे ज़हर का इलाज भी, मैं ही दूसरा ज़हर हूँ ;

अर्द्धसत्य ने कहा, मुझ पर कभी ऐतबार ना करना ऐ इन्शा ;
सच रूपी चासनी में लिपटा हुआ तो , मैं हलाहल विष का भी उस्ताद हूँ ;

धड़ल्ले से परोसा जाता हूँ नादानों व मासूमों को, आँखों मे भरकर थोड़ी सी नमी व नफ़रती तूफ़ान से ;

अंधविश्वासी व कट्टरपंथी को आगोश में लेकर, सरेआम हिंसा के तांडव का कारण में मैं ही तो हूँ ;

प्रेम, धैर्य व सद्भाव के साथ तार्किक मन्थन ही बचा सकता मुझसे ,
वरना करुणा, विश्वास व भाईचारे की नस्लों को बर्बाद करने वाला शैतान भी मैं ही हूँ।
__

“”” अर्द्धसत्य बोलने की गजब सी चाह पालने लगें हैं जो लोग,
समझते हैं कि कब्र पर खूबसूरत मकान बना लेंगे;

बहाने चले थे हमें दरिया में जब कुछ धूर्त लोग,
ज़लज़लों की हसरतों लिये समुद्री भँवर से अपने आपको वो कैसे बाहर निकालेंगे । “””
___

“” स्वार्थ व मक्कारी की चासनी में लिपटा आंशिक सच ,
समाज के लिये झूठ व जहर से ज्यादा घातक , विध्वंसक व संशयात्मक घूँण है। “

These valuable are views on Definition of Lie | Meaning of Half Truth | Ardhsatya Ki Paribhasha
झूठ, ज़हर की परिभाषा | अर्द्धसत्य  का अर्थ

मानस जिले सिंह
【 यथार्थवादी विचारक】
अनुयायी – मानस पँथ
उद्देश्य – समाज में शिक्षा, समानता व स्वावलंबन के प्रचार प्रसार में अपनी भूमिका निर्वहन करना।

6 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
6 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Amar Pal Singh Brar
Amar Pal Singh Brar
2 years ago

सही लिखा है जी

Sanjay Nimiwal
Sanjay
2 years ago

दिखावे के लिए झूठ व अर्द्धसत्य का सहारा लेना एक आम बात हो गई है, यह समाज में फैलता एक जहर ही है जो समाज को खोखला कर रहा है।

सुन्दर अभिव्यक्ति 👌👌

Rampratap gedar Ram
Ram gedar
2 years ago

Sir wakai me saty vchan jhut ek jahar se bhi bhayank vayrs hai

Devender
Devender
2 years ago

स्वार्थ व मक्कारी , वाह-वाह ।

क्या खुबसूरत संदेश दिया है आपने ।।👌👍

Last edited 2 years ago by Devender

Latest