Tuesday, May 28, 2024

Meaning of Victim | मजदूर या फिर हालात से मजबूर

More articles

मजदूर या फिर हालात से मजबूर | मजबूर का अर्थ
Meaning of Victim | Definition of Victim | Majdoor Ki Paribhasha

| A Labour or Victim of Circumstances |
| मजदूर या फिर हालात से मजबूर |

राम राम साहब जो सुना , मानो कानों में अमृत सा घुला ;
जैसे ही सन्नाटे को चीरती, जो आवाज कानों में पड़ी ;

नजर दौड़ाई तो मुरझाये चेहरे, फिर सम्मान देने उनके ही आगे झुके ;
लगा जैसे एक झुठी चेहरे की मुस्कान, मेंढक की तरह दुःखों के सैलाब से उछल पड़ी ;

ईमानदारी से लग्न व मेहनत भी, आँखों की चमक में मजबूरी न छुपा सकी ;
खुद के भरणपोषण के साथ परिवार की परवरिश, और क़बिलदारी की जिम्मेदारी भी उनके नाजुक कन्धों पर थी जो पड़ी ;

मोल भाव की आदत है सबको, चाहे फिर एक ही रेट मालिक यह सबको पहले से क्यों न कहा ;
दान देने वाला बड़ा होता है, इसलिए उनसे पुण्य कमाने वालों में भी होड़ सी मची ;

मौत है हर कदम पर फिर भी , जो सुरक्षित रहने का ये फरमान सबको मिला ;
खुद की खैरियत की ख़ातिर , वैसे ही दुनिया घरों के लिए निकल पड़ी ;

हराम और बेशर्मी से बैठकर, वो भी सकते थे खाना जो खा ;
ज़िल्लत से मर न जायें , फिर इज्ज़त की कमाने वास्ते दौड़ जो उनकी ही लगी ;

सब्जी बेचना, पानी , दूध पहुंचाना व साफ सफाई , ऊपर से कचरा भी घर घर का उनके ही हाथों से उठा ,
जबकि संकट काल में भी दुनिया , हर तरफ़ गन्दगी मचाने में थीं जुटी ;

इज्ज़त से नहीं तो थोड़ी सी करुणा से ही पुकार लेते , यह आस थी अंतर्मन में थोड़ी सी उनको भी ;
लाचारी की इंतहा दिखती है तो कभी , बेबस पथराई आंखों में हर बार की तरह एक फिर से टकटकी सी दिखी ;

These valuable are views on Meaning of Victim | Definition of Victim | Majdoor Ki Paribhasha
मजदूर या फिर हालात से मजबूर | मजबूर का अर्थ

मानस जिले सिंह
【यथार्थवादी विचारक 】
अनुयायी – मानस पंथ
उद्देश्य – मानवीय मूल्यों की स्थापना में प्रकृति के नियमों को यथार्थ में प्रस्तुतीकरण में संकल्पबद्ध प्रयास करना।

3 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Amar Pal Singh Brar
Amar Pal Singh Brar
2 years ago

अत्यंत मार्मिक चित्रण

Garima Singh
Garima Singh
2 years ago

आपकी रचना मुझे इस रचना की बहुत याद दिलाती है

” मैं मजदूर मुझे देवों को बस्ती से क्या ?”

Latest