Sunday, April 21, 2024

Meaning of Writing | कलम नहीं तो तरन्नुम

More articles

कलम की परिभाषा |  तरन्नुम का अर्थ
Meaning of Writing | Definition of Pen | Kalam Ki Paribhasha

“‘ कलम नहीं तो तरन्नुम “”

अमृत की चाह में जब निकल पड़ा हूँ कुछ यूँ ,
सारा जहाँ अब अपना सा घर लगने लगा ;

जात धर्म, ऊँच नीच छोड़ प्रकृति से ही प्रेम अब करने लगा कुछ यूँ ,
दोस्त रहबर भी नहीं पराया भी अजीज़ सा अब लगने लगा ;

रोशन ऐ चिराग करने की जिम्मेदारी ली है अपने कंधों पर कुछ यूँ ,
ज्ञान व शिक्षा के प्रचार प्रसार की एक कलम सी लगने लगा ;

चला हूँ दूरियाँ मिटाने इंसानों की कुछ यूँ,
गलतफहमियों के सामने मेरे प्यार, विश्वास व समर्पण का अब असर दिखने लगा;

धर्मान्धता मिटाने में सत्यपथ का नशा चढ़ा बस कुछ यूँ ,
भरे गुलिस्ताँ में भी बंदा परवर अब कच्ची कली की तरह खिलने लगा ;

मेरी पाक व सच्ची नादानी का हिसाब होगा जिंदगी के आखिर के पलों में कुछ यूँ ,
सबकी दुआओं में मरने के बाद भी आशा है जिंदा रहने लगूँगा ;

“” दुनिया याद रख रखेगी हमारी शख्सियत को कुछ यूँ ,
ज्यादातर सवाल के जवाब वरना नजरिया ही जरूर छोड़ जाऊँगा ;

हम मिट्टी नहीं विचारों की श्रृंखला हैं जनाब कुछ यूँ ,
भविष्य में एक शिक्षा की कलम नहीं तो बेबाक गायकी की तरन्नुम जरूर बन जाऊँगा । “”

“” आज शिक्षा को तार्किक, व्यावहारिक के साथ जीवंत बनाने की जरूरत है। “‘

इस आवाज को ताकत प्रदान करें।

These valuable are views on Meaning of Writing | Definition of Pen | Kalam Ki Paribhasha
कलम की परिभाषा |  तरन्नुम का अर्थ

मानस जिले सिंह
【 यथार्थवादी विचारक】
अनुयायी – मानस पँथ
उद्देश्य – समाज में शिक्षा, समानता व स्वावलंबन के प्रचार प्रसार में अपनी भूमिका निर्वहन करना।

14 COMMENTS

Subscribe
Notify of
guest
14 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Manas Shailja
Member
2 years ago

बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति

Sarla Jangir
Sarla jangir
2 years ago

Nice

Amar Pal Singh Brar
Amar Pal Singh Brar
2 years ago

कुछ ख़ास है अंदाजे बयां

Mohan Lal
Member
2 years ago

बिल कुल सही बात है गुरु जी

Sanjay Nimiwal
Sanjay
2 years ago

यह तो शुरुआत है, आपने कुछ ख्याबों को जकड़ा है,,

ख्यालों से पहचान है, अभी तो आपने कलम को पकड़ा है।

ONKAR MAL Pareek
Member
2 years ago

क्या बात है बहुत खूब , आज तो दिल छू लिया आपने अपनी लेखनी का प्रयोग करके । मां सरस्वती की कृपा आप पर बनी रहे ताकी आप इस संसार को कुछ अलग से सीखा और दिखा सको ।

ONKAR MAL Pareek
Reply to  Manas Jilay Singh
2 years ago

My pleasure

Devender
Devender
2 years ago

Nice

Devender
Devender
1 year ago

Nice thought

Latest